जैत ग्राम पंचायत
Jait Gram Panchayat
बुदनी जनपद पंचायत, सीहोर जिला पंचायत
 
 
   
  -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 
सचिव सरपंच उप-सरपंच रोजगार सहायक
श्री सत्यनारायण
+91-9993413463
श्रीमति अनीता चौहान
+91-
श्री गोपीराम केवट
+91-
मनोहर चौहान
+91-8085241052
-:: " जैत ग्राम पंचायत " का परिचय ::-
जीवनदायिनी दर्शन मात्र से पुण्य देने वाली सलिला माँ नर्मदा जी ग्राम जैत के उत्तर दिशा में कल-कल कर बह रही है। ग्राम जैत के उत्तर तट पर बैठकर महर्षि जमधगनी एवं परम पूज्य बूढ़े जी महाराज ने तप करके इस स्थान को ऊर्जावान बनाया।
 
मां नर्मदा के आंचल में इस गांव में प्रथम प्राथमिक स्कूल 1952 में संचालित होना शुरू हुआ। भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति तथा तत्कालीन भोपाल स्टेट के मुख्यमंत्री डॉ.शंकरदयाल शर्मा एवं तत्कालीन संभाग आयुक्त भगवान शाह के कर कमलों से उद्रघाटित इस शाला में मां सरस्वती का ज्ञान ग्रामवासियों को मिलना शुरू हुआ। इस कार्य में गांव के प्रतिष्ठित जागीरदार प्रेमसिंह चौहान तथा भवानी सिंह चौहान के सानिध्य एवं प्रेरणा से शाला में ज्ञान-दान का काम जोर-जोर से शुरू हुआ। तपोस्थली ग्राम जैत की पावन माटी में महान विभूतियों एवं समाजसेवियों ने जन्म लेकर इस धरा की खुशबू को सारे देश में फैलाया। इसी क्रम में मप्र के वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कीर्ति आज सारे देश में फैल रही है।
 
श्री प्रेमसिंह चौहान (बाबूजी) के घर में 05-03-1959 को जन्मे मां सुंदरा देवी का प्यार एवं दुलार का आंचल मिला। 3 भाई एवं 1 बहन ने गांव और आसपास के क्षेत्र में अपने संस्कारों से परिवार को गौरान्वित किया। शिवराज सिंह अपने बचपन से पढ़ाई एवं सामाजिक कार्यो में समान रूप से रुचि लेते रहे। भोपाल के हमीदिया कालेज से राजनीति शास्त्र में बी.ए. तथा दर्शन शास्त्र में एम.ए. के शिक्षा प्राप्त कर परीक्षा में उच्च अंकों में सफलता अर्जित कर (गोल्ड मेडलिस्ट छात्र) के रूप में पहचान बनाई।
 
राजनीति एवं दर्शन शास्त्र के ज्ञाता शिवराज सिंह ने अपना ज्ञान समाजसेवा के क्षेत्र में लगाया। अपने गृह गांव, जैत-शाहगंज एवं बैतूल में समाजसेवा के कारण तथा निरंतर आमजनों के संपर्क में रहने से इनकी पहचान पांव-पांव वाले भैय्या जी के रूप में सारे बुधनी क्षेत्र में बनी। इसी तरह भाजपा संगठन के कार्यो में मन एवं लगन से कार्य करने के कारण उन्होंने संगठन में अपनी विशिष्ट पहचान बनाई। विधानसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार बनाया और वह विधानसभा का चुनाव जीतकर पहली बार विधायक बने। वर्ष 1991 में लोकसभा के चुनाव होना थे। पार्टी ने उन्हें संसदीय क्षेत्र से चुनाव लडऩे का आदेश दिया। अपनी विधानसभा से सैकड़ों किलोमीटर दूर विदिशा संसदीय क्षेत्र में इस युवा ने मात्र 32 वर्ष की उम्र में पहली बार सांसद बनकर केंद्रीय राजनीति में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। युवा सांसद शिवराज सिंह ने अपनी लगन एवं सेवाभाव से विदिशा लोकसभा क्षेत्र से 5 बार चुनाव जीतकर विदिशा संसदीय क्षेत्र में एक नया इतिहास रचा। 29-11-2005 का दिन था। म.प्र. के मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह ने शपथ लेकर अपने जन्मभूमि तथा अपने माता-पिता को गौरान्वित किया। मुख्यमंत्री बनने के बाद वह बुधनी विधानसभा क्षेत्र के विधायक बने। 2008 में पुन: विधानसभा के चुनाव में पार्टी को बहुमत में लाकर उन्होंने दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर सच्चे जनसेवक के रूप में पहचान बनाई।
 
मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान ने समाज के सभी वर्गो के लिए विशेष रूप से सभी जातियों के आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लिए बिना किसी भेदभाव के शिक्षा, स्कालरशिप, शादी, चिकित्सा के साथ-साथ सभी धर्मो के बुजुर्गो को तीर्थ दर्शन कराकर सारे देश में म.प्र. को नई पहचान देकर धार्मिक सद्रभाव का नया संदेश प्रदान किया।
 
लाड़ली लक्ष्मी योजना, लोक सेवा गारंटी अधिनियम, मुख्यमंत्री सहायता कोष से गरीबों के लिए असाध्य रोगों का महंगा इलाज तथा समाज के प्रत्येक वर्ग से जुड़कर उनके लिए कल्याणकारी योजनाओं के संचालन से आज म.प्र. को देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी जाना जा रहा है। ग्राम पंचायत जैत को अपने इस लाड़ले सपूत के कारण गौरव तो प्राप्त हुआ ही है। गांव और आसपास के क्षेत्र का बहुमुखी विकास भी तेजी से हो रहा है। 2011 में जैत ग्राम पंचायत को निर्मल ग्राम पुरस्कार का सम्मान मिला है। पिछले वर्षो में इस क्षेत्र में विकास की गति तेज हुई है। जैत ग्राम पंचायत का कृषि का 98 फीसदी रकवा सिंचित है। जिसके कारण यहां का उत्पादन अच्छा है। पंचायत क्षेत्र में सोलर युक्त स्ट्रीट लाईट की व्यवस्था है। ग्राम पंचायत ''जैत" म.प्र. की राजधानी भोपाल से 91 किलोमीटर, शाहगंज से 16 किलोमीटर तथा बुधनी से 44 किलोमीटर है। पक्की सड़कों के कारण यहां बारह मास आसानी से पहुंचा जा सकता है। शासन एवं प्रशासन स्तर से ग्रामवासियों की समस्याओं का त्वरित निराकरण हो रहा है जो इस क्षेत्र की आम जनता के लिए संतोष और गौरव का अहसास कराती है।

-::महत्वपूर्ण लिंक्स::-
News / समाचार Rail / रेल Air / हवाई जहाज़ Bus / बस Website / वेबसाइट
केंद्र सरकार राज्य सरकार Assembly / सभा Judicial / न्यायिक Bank / बैंक
Search / सर्च इंजन Religion / धर्म Result / रिजल्ट Tender / निविदा Weather / मौसम
  नोट- वेबसाइट पर उपलब्ध पंचायतों से संबंधित जानकारी ग्राम पंचायत स्तर पर स्वयं अपडेट की जाती है; इस जानकारी को प्रमाण के रूप में ना माना जाए | जानकारी का सत्यापन या नवीनतम जानकारी के लिए संबंधित पंचायत में संपर्क करें | वेबसाइट एडमिनिस्ट्रेशन किसी भी जानकारी के लिए जिम्मेदार नहीं है |  
  Copyright © 2010-15 For PANCHAYAT.NET  
13909   277   2